पृष्ठ

सोमवार, 12 नवंबर 2012



मित्रों,
दीपावली पर आप सभी लोगों को बहुत बहुत शुभ कामनाएँ, दादी-अम्मा का देहांत की वजह से इस वर्ष दीपावली नहीं मना पा रहा हूँ, लेकिन आपके प्यार को देखते हुए अत्यंत ख़ुशी हुई। इस वर्ष गौर करूँ तो फेसबुक के छाती पर और मोबाइल के दिल रूपी इनबॉक्

स में अनगिनत मित्रों के बधाई सन्देश घुश आये हैं, ऐसी हिमाकत आप लोग ही कर सकते हैं जो मुझे बुरी नहीं लगती बल्कि ख़ुशी देती है !यह हम लोगों का ख़ुशी का त्यौहार है, दीप का त्यौहार है, इसी मौके पर हमारे समाज में कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनके लिए दीपावली अपनी नहीं बल्कि पराई होती है।उनके लिए यह एक आस, एक उम्मीद बनी रहती है हमेसा !उनके लिए कुछ ज्यादा कर तो नहीं सकते लेकिन उनका दर्द तो बाँट ही सकते हैं कुछ पंक्तिओं के साथ .. डॉक्टर नागेश पाण्डेय 'संजय' की कुछ पंक्तियाँ उन लोगों के नाम समर्पित हैं, मैं आपके साथ साझा कर रहा हूँ। उम्मीद है आपको पसंद आयेंगी उनकी ये पंक्तियाँ, शीर्षक है कैसे दीपावली मनाऊं ?
कैसे दीपावली मनाऊं?

कैसे दीपावली मनाऊं?
पास नहीं अम्मा के पैसे,
बापू की तबियत खराब है।
हुई उधारी बंद हर जगह,
कर्जे का भारी दबाव है।
घर के बर्तन बेच-बाचकर
कल का खाना गया बनाया।
जिसको हम लोगों ने मिलकर-
गिन-गिनकर कौरों में खाया।
अम्मा भूखी सोयीं बोलीं-
‘‘मुझे भूख ना, मैं ना खाऊँ।’’
कैसे दीपावली मनाऊँ?
नहीं मदरसे जा पाएँगे
भइया, उनका नाम कट गया।
दादी, को कम दिखता, उनका
बुनने का था काम, हट गया।
दीवाली के दीप बनाकर,
मैंने पैसे चार कमाए।
आशाओं के पुष्प खिले थे-
मन में, जितने, सब मुरझाए।
अपने आँगन भी दमकेंगे-
दीप ख़ुशी के मन झुँठलाऊं
कैसे दीपावली मनाऊँ?

किशोर - कविता : डा. नागेश पांडेय 'संजय'

बुधवार, 29 अगस्त 2012

हुक्का, हुक्का नहीं है.....बल्कि बहुत कुछ है !

 
 
हुक्के का भी अपना अंदाज है, इज्ज़त और रूतबा है...किसी को हुक्का ना पिलाओ तो मुश्किल और किसी को पिला दो तो आफ़त..अब यह आपको चुनना है, कब किसे और कहाँ हुक्का पिलाना है...बीडी,आज तक किसी की हो नहीं पाई ...और सिगरेट किसी को अपना नहीं पाया..लेकिन जितनी इज्जत हुक्के को मिली समाज में...खासकर उत्तर भारतीय समाज में उतनी इंसान को भी नहीं मिल पाई ..इस हुक्के की गुडगुडाहट ने ऐसी हुंकार भरी की आज कई जगह 'हुक्का बार' तक खुल बैठे हैं...लोग कह रहे हैं अगर धुएं को उडाना है, तो फिक्र के साथ क्यों उड़ायें, बल्कि खुसी साथ उडाओं ..आज सुबह उठ कर अपने पुराने मित्र के घर पर गया तो ये नज़ारा दिखा...उसकी की एक छोटी सी झलक आपके लिए ...

यमुना नाला नहीं नदी दिख रही है !


देश=भारत, राजधानी इसकी दिल्ली, और दिल्ली में इकलौती यमुना नदी, यमुना नदी अगस्त के महीने कैसी दिखी उसकी एक झलक आपके सामने पेश कर रहा हूँ..अपने मोबाइल से ली गई तस्वीर मेट्रो के अंदर से ...अधिकतर लोग यमुना नदी को देख कर और उसके बारे में बातें
करने पर नकारात्मक बोलते हैं....क्यूंकि नदी नहीं बल्कि यह काला नाला दिखता है..लेकिन इस महीने यह काला नहीं एक नदी दिख रही थी...मीडिया चिल्ला रहा है, अटकलें लगा रहा है बाढ़ आ जाएगी ये हो जायेगा वो हो जायेगा...पानी का लेवल इतना हो गया उतना हो गया...लेकिन सच बताऊँ इस बहते हुए पानी देखना अच्छा लग रहा है..असल में नदी का यही स्वरुप है,यही मिजाज़ है...सचमुच यमुना इन दिनों हर्ष से प्रफुल्लित होगी...इसी को नदी कहते हैं...शुक्रिया ! मॉनसून का जो नाले को नदी का रूप दे रहा है हर साल..बेशक कुछ दिनों के लिए ही सही ...नहीं तो साल में यमुना नदी नाला ज्यादा नदी कम दिखाई पड़ती है..!

बुधवार, 22 अगस्त 2012

एक था अजीब टाइगर .....!



गलती से 'एक था टाइगर' देखने की ज़हमत उठा बैठा ! जब अपने मित्र के साथ पिक्चर हाल के अन्दर घुसा तो आधे घंटे की फिल्म सरक चुकी थी...सीन में विदेशी हिंदी-लैस बाला कैटरीना कैफ और आधुनिक बुजुर्ग सलमान खान रसोई घर के अन्दर आपस में गुफ्तगू करने में लगे हुए थे...लेकिन पूरी फिल्म देखी जिस पर फिल्म आधारित थी, उन दोनू का मिक्सचर जूस बनाकर प्रोडूसर और निर्देशक दोनों बेशर्मी से गटक गए, RAW और ISI अगर ऐसे ही काम करते रहे, या करते होंगे, या करते हैं तो हिन्दुस्तान और पकिस्तान दोनू आतंकिओं के ढोल पर मातम मना रहे होंगे...शर्म की बात है ! फिल्म बनानी भी है इतने सम्बेदनशील मुद्दे पर तो थोडा तो ठीक दिखा देते....अंत में 'एक था टाइगर' का अता पता भी नहीं चला है कहाँ है ...इससे अच्छा तो हमारे कॉर्बेट पार्क के टाइगर अच्छे हैं जो शिकार होने के बाद उनका शव तो मिल ही जाता है....फिल्म में सलमान से अच्छा अभिनय कैटरीना ने किया है...अगर यह लड़की हिंदी बोलना सीख गई तो कुछ सालों में बोलीवुड का काफी माल समेट ले जायेगी ! आप पैसा कितना ही कमा लें , कुल मिलाकर RAW और ISI की यह इकलौती प्रेम कहानी गले से नहीं उतरी !

गुरुवार, 8 मार्च 2012

सियाशत की जंग में जनरल की दोतरफा हार |

उत्तराखंड में हुए विधान सभा चुनाव और उनके नतीजों ने सियाशी गलियारों में गहमा-गहमी तेज़ कर दी है.इस पहाडी राज्य में 70 सीटों के लिए हुए चुनाव में सब कुछ देखने को मिला....लेकिन सबसे बड़ी हैरान कर देने वाली जो बात थी वह खुद मुख्यमंत्री मेजर जनरल [सेवानिवृत]भुवन चन्द्र खंडूड़ी का चुनाव में बुरी तरह हारना | यह बात भारतीय जनता पार्टी को पच रही है और ना ही उनके विरोधियौं को लेकिन खंडूडी के लिए यह दोतरफा हार है एक पार्टी को स्पष्ट बहुमत ना दिला पाने की और दूसरी उनकी ब्यक्तिगत सियाशी हार |वह कोटद्वार विधान सभा सीट से वह कांगेस प्रयाशी एस एस नेगी से 4632 वोटों से हार गए. पार्टी को बहुमत मिलने के बाद बुधवार को मुख्यमंत्री खंडूड़ी इस्तीफा देने के लिए राजभवन पहुंचे तो बीस मिनट तक चली इस मुलाकात के दौरान राज्यपाल खंडूड़ी के इस्तीफे की औपचारिकता के तुरंत बाद राज्यपाल आल्वा पूरी तरह अनौपचारिक हो गई। राज्यपाल ने कहा कि जनता कभी-कभी अच्छे लोगों को हरा देती है। राज्यपाल ने कहा खंडूड़ी के चुनाव हारने का उन्हें भी दुख है साथ ही यह भी कहा कि खंडूरी अच्छे मुख्यमंत्री रहे हैं। वे समर्पित एवं स्पष्टवादी हैं। खंडूड़ी ने कहा कि राज्यपाल के रूप में श्रीमती आल्वा का उन्हें बहुत सहयोग मिलता रहा है। इसके लिए उन्होंने आभार भी जताया।

जनता निशंक के कार्यकाल से त्रस्त दिख रही थी और भाजपा ने इस बात को पहचाने में देर तो की लेकिन लेकिन अंतिम समय में आनन्-फानन में छह महीने के लिए मुख्यमंत्री खंडूडी को 'डैमेज कण्ट्रोल' के तहत फिर से मुख्यमंत्री की गद्दी सँभालने के लिए कहा गया...यह खंडूडी की ईमानदारी और मेहनत का नतीजा था जो भाजपा 31 सीटों पर कब्जा कर पायी वर्ना और नुक्शान हो सकता था. एक अजीब सोच लोगों की देखने को मिली प्रदेश में जिससे भी पूछो वह यही कहता मुख्यमंत्री खंडूडी होने चाहिए लेकिन भाजपा सत्ता में नहीं आनी चाहिए. चुनाव परिणाम वाले अंतिम समय तक दोनू दल कांग्रेस और भाजपा एक दूसरे के आगे पीछे रहे.70 सीटों में से कांग्रेस को 32 और भाजपा को 31 सीटें मिली हैं. बसपा को 3 सीटें और एक सीट उत्तराखंड क्रांति दल [पी] को मिली है. कांग्रेस से बागी उम्मीदवारों ने निर्दलीय चुनाव जीत दर्ज की है | दो दलों का दबदबा रहा प्रदेश की राजनीती में यह एक बात अच्छी रही है. उक्रांद और नयी नवेली यूआरएम् भी कुछ खास नहीं कर पायी. उक्रांद ने एक सीट जीती है वहीं उत्तराखंड रक्षा मोर्चा [यूआरएम्] खाता भी नहीं खोल पाया.वहीं उतर प्रदेश में परचम लहराने वाली समाज वादी पार्टी के लिए उत्तराखंड अभी मुंगेरी लाल के हसीं सपने जैसा है. दूसरा कारण सपा के लिए उत्तर प्रदेश चुनाव पर पूरा ध्यान ही रखना भी एक कारण रहा है. दूसरी सबसे बड़ी हार भाजपा के दिग्गज माने जाने वाले प्रकाश पन्त की रही जो पिथौरागढ़ सीट पर कांग्रेस के मयूख महर से चुनाव हार गए. यह भाजपा लिए यह सीट भाजपा का गढ़ माना जाता था लेकिन इस बार वह भी हाथ से निकल गयी.

मुख्यमंत्री खंडूडी का हारना सबसे चौकाने वाला था और इसके लिए कोटद्वार की जनता नहीं बल्कि भाजपा के अन्दर गुटबंदी जिम्मेदार रही है. भाजपा को मंथन करना चाहिए कहाँ गल्ती हुई जो अपने ईमानदार और मेहनती मुख्यमंत्री को भी जिता नहीं पायी.वहीं कांग्रेस के लिए प्रदेश में अच्छा परिणाम आया है.हरीश रावत की मेहनत रंग लायी है हो सकता है हरीश रावत आने वाले दिन में मुख्यमंत्री की कुर्सी में नज़र आयें और यह उनकी सालों की मेहनत का नतीजा भी है. सब जानते हैं इससे पहले नारायण दत्त तिवारी और सतपाल महाराज जैसे दिग्गजों ने केंद्रीय मंत्री हरीश रावत के रास्ते पर हमेशा रुकावट ही डाली और अब उनके पास मंत्रिपद का अनुभव भी है.सरकार जो भी बनाए लेकिन प्रदेश से युवा शिक्षा और रोजगार के लिए पलायन कर रहा है. यह अजीब बात है बाहर से शुरुवाती शिक्षा पाने के लिए लोग अपने बच्चों को उत्तराखंड के नैनीताल,मसूरी, देहरादून,घोडाखाल जैसी जगह भेजते हैं. जबकि प्रदेश की जनता अपने बच्चों को इन शिक्षण संस्थानों में पढ़ा लिखा नहीं सकती ? क्योंकि इतने महंगी फीस कहा से दे पाएंगे?प्रदेश में शिक्षा के आधार भूत ढाँचे को भी और मजबूत करने की जरुरत है. निशंक और खंडूडी दोनू ही इसमें कुछ ज्यादा नहीं कर पाए हैं.

मतदान का प्रतिशत इस बढ़ा है पिछली बार के मुकाबले इस बार 9.95 प्रतिशत की दर से यह बढ़ा है. देहरादून में 67.54 और हरिद्वार में 75.46 और उधम सिंह नगर में 76.84 रहा. खंडूड़ी का हारना प्रदेश की राजनीती के लिए शुभ संकेत नहीं हैं. क्यूंकि राजनीती में वैसे ही ईमानदार और मेहनती लोगों की संख्या गिनी चुनी है. जनता को भी इस पर सोचना चाहिए. यूरोप और भारत में यह सबसे बड़ा अंतर है वहां मतदाता परिपक्व है, समझता है अच्छा बुरा, हमारे यहाँ पर वह जात-पात,और लोभ लालच के भंवर में चक्कर खाता रहता है और अपनी वोट की महत्वता खो बैठता है. उत्तराखंड को सैनिक प्रदेश के नाम से भी जाना जाता है इस वजह से वहां पर फौजी मतदाता भी काफी हैं.चुनाव में भी दो जनरल थे, एक मुख्यमंत्री खुद दूसरा यूआरएम् के लेफ्टीनैंट जनरल टीपीएस रावत जो चुनाव हार गए. पोस्टल वोटरों का काफी हजारों की मात्रा में बैरंग लौटना भी खंडूड़ी और उनकी सरकार के लिए नुक्सान दायक रहा. भाजपा ने चुनाव आयोग से मांग भी की दुबारा मतदान पत्र भेजे जाएँ लेकिन चुनाव आयोग नहीं इस मांग को नकार दिया. किसी मतदाता ने भी मांग नहीं की नहीं तो भेजा सकता था और कुछ सीटों का नतीजा कुछ और ही होता दोनू दलों के लिए. निशंक के समय में घोटाले हुए उनसे वह अब तक पीछा नहीं छुड़ा पाए हैं. इसका खामियाजा प्रदेश में पार्टी को चुनाव में उठाना पडा. आने वाली सरकार के लिए आने वाला समय और चुनौती पूर्ण होगा अगर कांग्रेस सरकार बनाती है तो कितना चलेगी इस पर संसय बना रहेगा और अगर भाजपा बनाती है कितना अपने आप को साबित कर पायेगी.

बुधवार, 7 मार्च 2012

होली में भी आरक्षण !



आज देश में होली है....इस अवसर पर सभी को होली की हार्दिक शुभकामना...सुन्दर रंगीला त्यौहार है बशर्ते इसे बदरंग ना किया जाए...अंग्रेज़ कहते हैं हिन्दुस्तानी साल में एक बार पागल होता है वह है होली का दिन..कपडे फटे हुए,रंगीले,मुह काला-लाल किया हुआ...सब भिगोने,पोतने में लगे होते हैं एक दूसरे को ..होली के पहले दिन पता चला जब बिहार डेस्क पर गया और हमारे सहयोगी ने बताया कि बिहार में आज होली नहीं है..इसलिए उसे ऑफिस आना पड़ेगा क्यूंकि आज खबरें आएँगी....कई सालों से होली में भी ऑफिस में मना रहा था..इस बार घर पर हूँ ..लेकिन अपने नहीं बहन के घर पर..दादी का देहांत होने की वजह से अपनी होली तो मननी नहीं है.. इस लिए सोचा बहन के घर चला जाए.....इस बार बिहार और उत्तराखंड में होली आज नहीं बल्कि एक दिन बाद है...में तो चुनाव में ब्यस्त था..इसलिए पता भी नहीं चला होली भी आ रही है...दो ढाई महीने से आज थोडा आराम करने का मौका मिला है..लेकिन यह दो दिन का त्यौहार मनाने वाला 'लफडा' पिछले कुछ सालों से देखने में आया है... अब इसके लिए जिम्मेदार कौन ? परम्परागत पुरोहित या फिर सरकार का कलैंडर बनाने वाला पंडित जो अधिकतर छुट्टियां अपने आगे पीछे कितनी छुट्टियाँ देखकर ' सेट' करता है ..लगता है त्यौहार मनाने में भी 'आरक्षण' लागू कर दिया है...15 -16 साल हो गए हैं घर गाँव की होली देखे,खेले...घर गाँव की होली आज भी मिस करता हूँ...लेकिन त्यौहार एक दिन मनाया जाय तो उचित होगा...यह पंडित जी लोगों और सरकारी बाबू दोनू ज़मात से अपील करता हूँ.

शनिवार, 14 जनवरी 2012

बुधवार, 7 दिसंबर 2011

'डर्टी पिक्चर' का गंदापन अश्लील नहीं है.....

लम्बे समय बाद कोई हिंदी फिल्म ठीक सी लगी, में अपने एक पत्रकार महिला लम्बे समय बाद कोई हिंदी फिल्म ठीक सी लगी, में अपने एक पत्रकार महिला साथी के साथ देखने गया..पहले तो वह जिझक रही थी..फिर मैंने मजाक में कहा आप अपने सीट में बैठेंगे और हम अपने...और सिल्क को परखेंगे....वह फिर मान गई..बाद में फिल्म देखने के बाद बोली फिल्म अच्छी थी..खैर..पिछले कुछ दिनों से मीडिया और अन्य प्रचार माध्यम से इस फिल्म का काफी कुछ मसाला लोगों के आँखों में परोसा जा चुका था...और जिस हिसाब से इसका प्रचार किया गया था वह भी काबिले तारीफ था...'डर्टी पिक्चर' ...जैसा

इस फिल्म का नाम है, वैसा किस सेन्स में होना यह बड़ी बात थी...डर्टी माने गन्दा! ॥कैसा गन्दा यह इंसान की सोच पर निर्भर करता है...

इस फिल्म को दक्षिण भारत की फिल्मों की अभिनेत्री/नचनिया रही सिल्क स्मिता की जिंदगी पर बनाया गया था॥मतलब साफ़ है एक तो लुट के मर गई, दूसरी अब लूटने जा रही है..आगे भगवान् जाने...निर्देशक ने कोशिश अच्छी की है..और फिल्म के अंत में छोड़ कर बाकी फिल्म में पूरी तरह उसका कंट्रोल रहा है...निर्देशक ने अंत में जल्दी-जल्दी शोट्स लगा दिए हैं ,लगता है फिल्म की लम्बाई कुछ ज्यादा हो रही होगी..यह बात हिंदी फिल्मों के निर्देशकों के लिए हमेशा सर दर्द रहा है ..फिल्म खीच ले जाते हैं अंत तक और फिर छोड़ देते हैं खुले मेले में..और फिल्म उनके हाथ में ना रह कर इधर-उधर भटकती है..और दर्शकों के दिल में कई प्रश्न बार-बार उठते हैं..कि ऐसा क्योँ ?वैसा क्योँ नहीं इत्यादि ...लेकिन सिल्क के सपने धरती पर नहीं बल्कि आसमां में हिचकोले ले रहे थे..उसे तो हीरोइन बनना था..डांसर बनना था...कैसे भी...जो ले-लो, जैसा ले लो...सिल्क तैयार..इसलिए एक बात है यह फिल्म उन लड्कियौं के लिए भी है जो हद से ज्यादा महत्वकांशी होते हैं..और जीवन में दिखावा वाली सफलता पाने के लिए सब कुछ लुटा बैठती है, और अंत में सिर्फ सून्य पर आकर अपना नाम ऊपर वाले के नाम कर देती हैं..महत्वकांशी लडकी को जरुर देखनी चाहिए यह फिल्म ...उसके लिए एक सीख भी है।फिल्म इंडस्ट्री की प्रष्ठ - भूमि पर बनायी गई इस फिल्म को निर्देशक मिलन ने पूरे कंट्रोल के साथ फिल्म में अपनी छाप छोडी है, वहीं सिल्क के रूप में विद्या बालान ने बखूबी अभिनय किया है...जैसा फिल्म का नाम वैसा उसमे है भी...शुरू में ही कमरे में यौन क्रीडा में लग्न एक जोड़े को सिल्क पोप-कोर्न या कुछ और खाते हुए एन्जॉय करती है...और वही यौन क्रीडा एक बार उसके फ़िल्मी काम में भी मदादगार साबित होता है...लेकिन विद्या ने जितना एक्सपोज़ इस फिल्म में सायद अब ना कर पाए..क्यूंकि और कुछ बचा ही नहीं, आने वाली फिल्म में कुछ दिखाने के लिए उसके लिए...डायलोग बहुत बेहतरीन हैं..और उतने अच्छे तरीके से विद्या ने उनको बोला भी है..लेकिन जितने किस विद्या ने किये हैं वह काबिले तारीफ नहीं हैं...सायद सिल्क भी नहीं रही होगी..इस कला को फ़्रांस जा क़र सीख आने की जरूरत है...हीरो के रूप में नसीर, इमरान हाशमी और तुषार कपूर का अभिनय अपनी जगह उम्दा है..तुषार को फिर से कहूँगा कि घर की मार पड़ गई है...या उनको सिल्क जैसे महिला प्रधान कोई फिल्म बनानी चाहिए, हीरो के रूप में नहीं बल्कि निर्देशक या फिर प्रोडूसर के रूप में..नहीं तो अपनी बहन एकता कपूर का असिस्टंट बन जाना चाहिए ..




महिला आधारित फिल्म होने के कारण निर्देशक कहानी को विद्या बालान या सिल्क के चारों तरफ रखने में सफल हुआ है...संगीत के रूप में एक गाना अच्छा है सूफियाना-सूफियाना...उ ला ला ला भी ठीक ठाक है उन लोगो के लिए जो तेज़ म्यूजिक पसंद करते हैं...वहीं फिल्म में विद्या जब सब कुछ होते हुए भी चिल्लाते हुए कहती है की कोई है मुझसे बात करने वाला ? बहुत कुछ सोचने पर मजबूर और बहुत सरे प्रश्नों के जवाब भी सामने रख देता है .


कुल मिला कर विद्या के बिंदास अभिनय, मजबूत डायलोग और दुखद क्लाइमैक्स ने फिल्म को हिट की कटेगरी में रख दिया है...वहीं इस फिल्म ने फिल्म इंडस्ट्री के सनसनीखेज और विवादास्पद हकीकत को सामने भी रखा है...अब जो फिल्म देखने जायेगा उसके पैसे तो वसूल हो ही जायेंगे बसर्ते पॉप-कोर्न और पेप्सी ना खाएं-पियें तो...


'डर्टी पिक्चर' का गंदापन अश्लील नहीं है.....

लम्बे समय बाद कोई हिंदी फिल्म ठीक सी लगी, में अपने एक पत्रकार महिला साथी के साथ देखने गया..पहले तो वह जिधक रही थी..फिर मैंने कहा आप अपने सीट में बैठेंगे और हम अपने...फिर मान गई..बाद में फिल्म देखने के बाद बोली फिल्म अच्छी थी..खैर...पिछले कुछ दिनों से मीडिया और अन्य प्रचार माध्यम से इस फिल्म को काफी कुछ मसाला लोगों के आँखों में परोसा जा चुका था...और जिस हिसाब से इसका प्रचार किया गया था वह भी काबिले तारीफ था...'डर्टी पिक्चर' ...जैसा की इस फिल्म का नाम है वैसा किस सेन्स में होना यह बड़ी बात थी...डर्टी माने गन्दा ..कैसा गन्दा यह इंसान की सोच पर निर्भर करता है...इस को फिल्म दक्षिण भारत की फिल्मों की हेरोइन रही सिल्क स्मिता की जिंदगी पर बनाया गया था..मतलब साफ़ है एक तो लुट के मर गई दूसरी लूटने जा रही है..आगे भगवान् जाने...निर्देशक ने कोशिश अच्छी की है..और अंत में छोड़ कर बाकी फिल्म में पूरी तरह उसका कंट्रोल रहा है...निर्देशक ने अंत में जल्दी-जल्दी शोट्स लगा दिए हैं लगता है फिल्म की लम्बाई कुछ ज्यादा हो रही होगी..यह बात हिंदी फिल्मों के निर्देशकों के साथ बहुत ज्यादा होता है..फिल्म खीच ले जाते हैं अंत तक और फिर छोड़ देते हैं..फिर फिल्म उनके हाथ में ना रह कर इधर उधर भटकती है..और दर्शकों के दिल में कई प्रश्न बार बार उठते हैं..की ऐसा क्योँ ?वैसा क्योँ नहीं इत्यादि ...

लेकिन सिल्क के सपने धरती पर नहीं बल्कि आंसमां में थे..उसे तो हीरोइन बनना था..कुछ भी कैसे भी...जो ले लो जैसा ले लो...सिल्क तैयार..इसलिए एक बात है यह फिल्म उन लड्कियौं के लिए भी जो हद से ज्यादा महत्वकांशी होते हैं..और जीवन में दिखावा वालीसफलता पाने के लिए सब कुछ लुटा देती है और अंत में सिर्फ सून्य पर आकर अपना नामो निशाँ मिटा बैठती हैं..ऐसी लडकी को जरुर देखनी चाहिए...उसके लिए सीख भी है.

फिल्म इंडस्ट्री की प्रष्ठ - भूमि पर बने गई इस फिल्म को निर्देशक मिलन ने पुरे कंट्रोल के साथ फिल्म में अपनी छाप छोडी है, वहीं सिल्क के रूप में विद्या बालन ने बखूबी अभिनय किया है...जैसा फिल्म का नाम वैसा उसमे है भी ...शुरू में ही कमरे में यौन क्रीडा में लग्न एक जोड़े को सीलम पोप कोर्न खाते हुए एन्जॉय करती है...और वही यौन क्रीडा एक बार उसके जीवन उसके फ़िल्मी काम में भी मदादगार साबित होता है...लेकिन विद्या ने जितना एक्सपोज़ इस फिल्म में किया है सायद अब ना कर पाए..क्यूंकि और कुछ बचा ही नहीं आने वाली फिल्म में दिखाने के लिए उसके लिए...डायलोग बहुत बेहतरीन हैं..और उतने अच्छे तरीके से विद्या ने उनको बोला भी है..हीरो के रूप में नसीर, इमरान हाशमी और तुषार कपूर का अभिनय अभी जगह उम्दा है..


लेकिन महिला आधारित फिल्म होने के कारण निर्देशक कहानी को विद्या बालान या सिल्क के चारों तरफ रखने में सफल हुआ है...संगीत के रूप में एक गाना अच्छा है सूफियाना-सूफियाना...उ ला ला ला भी ठीक ठाक है...कुल मिला कर फिल्म विद्या के बिंदास अभिनय, मजबूत डायलोग और दुखद क्लाइमैक्स ने फिल्म को हिट की कटेगरी में रख दिया है...वहीं इस फिल्म ने फिल्म इंडस्ट्री के सनसनीखेज और विवादास्पद हकीकत को सामने रख दिया है...जो फिल्म देखने जायेगा उसके पैसे वसूल हो जायेंगे बर्सरते पॉप-कोर्न और पेप्सी ना पियें तो...

सोमवार, 28 नवंबर 2011

मेरी हल्द्वानी यात्रा.....

एक हफ्ते की छुट्टी के बाद आज वापस ऑफिस लौटा हूँ.....काफी समय बाद अपने लोगों से मिला....रिश्तेदारों से मिला....और प्रकर्ति के साथ गुफ्तगू करने की कोशिश की जो मुझे हमेशा पसंद है....मेरी कजन सिस्टर रेशु की शादी में हल्द्वानी [नैनीताल] गया था...सभ लोग आये थे....अच्छा लगा...इंटर कास्ट होने की वजह से और भी अच्छा लग रहा था...खैर इस दौरान मौसम भी ठंडा था और लोग भी काफी खुस दिखाई दे रहे थे...बुआ, नानी, चाची, कज़न्स सभी लोगों से लम्बे से समय के बाद मिलना अपने आप में एक अलग अहसास था.....ऊपर वाला ऐसा समय रोज क्योँ नहीं लाता...लड़के वाले बंगाल से थे..इसलिए दो संस्कृति का मिलन भी था...घर पर पार्टी और मंदिर में शादी दोनू अद्भुत थे.....मंदिर इतना सुन्दर था की लफ़्ज़ों में बयां कर पाना कठिन है...प्रकर्ति की गोद में क्योँ ऐसे जगह भगवान् वास करते हैं अब समझ आया ...इस दौरान दिल्ली जैसे शहर से दूर रहने का तनिक भर भी अहसास नहीं हुआ....लगा कहीं और नजदीक आ गए हैं अपनी जगह अपने लोगों के बीच....खेत खलिहान, पहाड़, नदी सब जैसे एक परिवार का हिसा लग रहा था..और हैं भी...जब तक नैनीताल में था स्वस्थ था दिली आते ही सर्दी जुखाम और खांसी ....इसलिए यह शहर अपना नहीं पाया हमें...और हम इसे शायद ! लेकिन एक बात है अभी भी छोटे शहर शांत हैं, सकूं से जिंदगी जीते हैं ...और आपा-धापी नहीं हैं वहां पर...और जिंदगी को जिंदगी की तरह जीने की कोशिश करते हैं...सिर्फ रोजगार के अवसर वहां पर मिल जाएँ तो मजा आ जाये...और रोज का खर्चा भी कम है ...

रविवार, 30 अक्तूबर 2011

सेबेस्टियन वेटेल ने जीती पहली भारतीय फ़ॉर्मूला वन रेस


रेड बुल टीम के मौजूदा फ़ॉर्मूला वन चैम्पियन सेबेस्टियन वेटेल ने भारत में पहली बार आयोजित की गई इंडियन ग्रां प्री रेस जीत ली है.


ग्रेटर नॉएडा के बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट में रविवार आयोजित हुई इस रेस में वेटेल ने अपने बेहतरीन फॉर्म को बरकरार रखते हुए 1:30:35:02 का समय लेते हुए इस प्रतियोगिता को जीता.

इस जीत के साथ ही सेबेस्टियन वेटेल ने इस साल आयोजित की गईं फ़ॉर्मूला वन रेसों में अब 11वीं बार पहला स्थान हासिल कर लिया है.

भारत में पहली बार आयोजित की गई इस तरह की रेस में जेंसन बटन को दूसरा स्थान जबकि फेरारी के फर्नान्डो अलोंसो को तीसरा स्थान प्राप्त हुआ.

पूर्व विश्व चैम्पियन माइकेल शूमाकर रेस में पांचवे स्थान पर रहे जबकि सहारा फ़ोर्स इंडिया के एड्रियन सुटिल नौवें स्थान प्राप्त कर सके.

सचिन तेंदुलकर


भारत के नारायन कार्तिककेयन जो की हिस्पानिया रेसिंग की तरफ़ से हिस्सा ले रहे थे उन्हें 17वें स्थान से ही संतोष करना पड़ा.

इस बीच फेरारी के फेलिपे मासा के लिए पहली भारतीय ग्रां प्री फ़ॉर्मूला वन प्रतियोगिता उतनी शुभ नहीं रही.

मासा की रेस के मध्य में लुईस हैमिल्टन की कार से टक्कर हुई और उसके थोड़ी ही देर बाद उन्हें रेस बीच में ही त्यागनी पड़ी.

सितारों का जमघट

रेस ख़त्म होने के समय भारत के नामचीन क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने झंडी दिखा कर सेबास्टियन वेटेल को विजेता घोषित किया.

दिल्ली के पास नोएडा में बने बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट में दुनिया भर के टॉप खिलाड़ियों, बॉलीवुड और अंतरराष्ट्रीय हस्तियों का जमावड़ा लगा रहा.

इस रेस को देखने और बाद में होने वाली पार्टी के लिए कई बड़ी हस्तियाँ आई हैं. विदेश से गायिका लेडी गागा आई हुई हैं तो भारत से सचिन तेंदुलकर, शाहरुख़ खान और सानिया मिर्ज़ा जैसी हस्तियाँ पहुँची हैं.

कुल 12 टीमें फ़ॉर्मूला वन में हिस्सा ले रही हैं जिसमें रेड बुल, मक्लेरन, फ़रारी, मर्सिडीज़, टीम लोटस, रेनॉ, जैसी टीमें हैं. फ़ॉर्मूला वन में एक भारतीय टीम भी है- सहारा फ़ोर्स इंडिया.


Courtesy:- BBC

List of Unauthorized Colonies in Najafgarh,New Delhi

Najafgarh has the highest population count in NCR (National Capital Region), Delhi. Najafgarh houses around 70 villages neighboring the state of Haryana. Most of the colonies in Najafgarh are ill-planned and counted amongst unauthorized colonies as they are not in accordance to the Delhi Master Plan. The Municipal Corporation of Delhi or MCD has not taken any major development work in the area.

According to the Government of NCT of Delhi, a list of unauthorized colonies in Najafgarh includes:

Somesh Vihar, Chhawla, Najafgarh

Shyam Enclave (Z-Block), Gopal Nagar Extn., Najafgarh

Dabar Enclave (S R Block A) Rawta Mode Jafar pur, Najafgarh

Dharam Pura Ph-I, Kakrola Road, Najafgarh

Mitraon Extn. Main Dhansa Road, Najafgarh

Durga Enclave Jafarpur Kalan, Najafgarh

New Hira Park, Dichaon Road, Najafgarh

New Roshanpura Extn. 'Y' Block, Paprawat Road, Najafgarh

Jafarpur Extn.Jafarpur Kalan, Najafgarh

Sai Baba Enclave, B-Block (Part-B), Najafgarh

Mahesh Garden, Main Bahadur Garh Road, Najafgarh

Nanu Ram Park Haibat Pura Jharoda Road, Najafgarh

Sangam Vihar, Kakrola Road, Najafgarh

Baba Hari Dass Nagar, Bahadurgarh Road, Najafgarh

Prem Nagar D- Block; Krishna vihar West Najafgarh

New Roshan Pura, E-Block; Shiv Enclave, Main Dichaon Road, Najafgarh

Old Roshan Pura, J-Block; Gopal Nagar Extn., Najafgarh

Dalip Vihar, Near Suraj Cinema, Najafgarh

Janta Vihar, Jharoda Road, Najafgarh

Durga Vihar, Phase-I, Gurgaon Road, Najafgarh

Qutab Vihar Ph-I, Najafgarh

Najafgarh Park Colony, Block A, B, & C, Dichaon Road, Najafgarh

New Roshanpura A2, B1, A2, N1& P3 Block, Najafgarh

Lokesh Park & Heera park extn., Najafgarh

Ekta Vihar (Block A, B & C) near New Grain Market, Jharoda Road, Najafgarh

Nangli Vihar Extn Part-I RZ-44 Murti Bhawan, Najafgarh

Chinar Enclave, Najafgarh

Dwarka Vihar, Kakrola Road, Najafgarh

Data Ram Park Near Deendarpur, Najafgarh

Dharmapura A- I Block, Najafgarh

Nishat Park, Kakrola Mor, Najafgarh

Ganapati Enclave Extn., Najafgarh

Dharam Pura J- Block Colony, Najafgarh

Shanti Vihar, Dinpur, Najafgarh

Risal Vihar Chhawla Extn., Najafgarh

Niranjan Park Najafgarh Road, Nangli Dairy, Najafgarh

Gopal Nagar, N-Block, M. D. Road, Najafgarh

Surya Kunj Bahadurgarh Road, Najafgarh

Gopal nagar Extn., Najafgarh

Chandan Place, Kali Piau, Jharoda Road, Najafgarh

Vardhman Vihar U & F Block New Roshan Pura Extn., Najafgarh

Gopal nagar A- Block, Najafgarh

Indira Market & Aggarwal Colony, Haibatpura, Najafgarh

Nehru Garden Colony, New Roshan Pura (LOP), Najafgarh

Gupta market, Najafgarh

Naya Gopal Nagar, Surakhpur Road, Najafgarh

New Roshanpura Colony S- Block, Najafgarh

Adhyapak Nagar Block D E F, Najafgarh

Roshan Vihar, Gurgaon Road, Najafgarh

Chetan Vihar (Gopal Nagar Extn.) Dhansa Road, Najafgarh

Indra Park F- Block Maksudabad, Najafgarh

Sarika Vihar, Goyla More, Deenpur Extn., Najafgarh

Shyam Vihar Phase II, (Behind Pooja Pipe Factory) Near 40 Ft Road (LOP), Najafgarh

Nirmal Vihar, Najafgarh

New Gopal Nagar Extn. ABCD Block, South of Dhansa Road, Najafgarh

New Roshanpura Extn. Part-II (Prem Nagar 'G' Block), Najafgarh

Shankar Park DharaM.Purura Extn., Najafgarh

Saraswati Kunj, C.R.P.F. Road, Jharoda Kalan, Najafgarh

Old Roshanpura Extn.C- Block, Najafgarh

Sri Sai Baba Enclave, Najafgarh

Nathu Ram Park, Tehsil Road, Najafgarh

New Roshnapura Extn. O- Block, Najafgarh

Ranaji Enclave Near Sai Mandir, Najafgarh

Vinoba Enclave Extn. CRPF Colony, Jharoda Kalan, Najafgarh

Palam Apt.Bijwasan, Najafgarh

Prem Nagar H Block Old Khaira Road, Najafgarh

Anand Vihar, near Nangli Sakrawati, Najafgarh

Shiv vihar Prem Nagar G- Block Paprawat Road, Najafgarh

Arjun Park Najafgarh Road, Najafgarh

Shiv Puri Part-II, Deenpur, Najafgarh

DharaM.Purura Extn.D Block Kakrola Road, Najafgarh

Arjun park Colony Near Nangli Dairy Najafgarh Road, Najafgarh

Sri Hans Nagar Colony, Ghumanhera Road, Najafgarh

Neelkanth Enclave (LOP), Najafgarh

Sultan Garden B- Block Najafgarh Nangloi Road, Najafgarh

Kamla Enclave, New Roshan Pura Extn., Najafgarh

Haibatpura Extn Near Anaj Mandi Bahadurgarh Road, Najafgarh

Gopal Nagar Extn.Ph.II Block A & B, Surakhpur Road, Najafgarh

Aman Puri, Najafgarh, Nangloi

Aradhana Enclave Gopal Nagar Extn., Najafgarh

New Roshanpura Extn. J- Block, Najafgarh

Roshan Garden-II, Kakrola road, Najafgarh

Sri Ganga Vihar Colony DinDar Pur, Najafgarh

Prem Nagar A Block Ph-V, Najafgarh

Gandhi Park Main Gurgaon road, Deenpur, Najafgarh

Shiv Nagar New Roshan Pura, (LOP), Najafgarh

Prem nagar Najafgarh G- Block & G-1, Najafgarh

DharaM.Purura, Block A -3; Prem Vihar Colony, Nangli Dairy, Najafgarh

Deendarpur Extn., Najafgarh

Gupta Park, Najafgarh

Shri Krishna Colony, Surakhpur Road, Gopal Nagar, Najafgarh

Nangli Vihar Colony near Nangli Dairy, Najafgarh

Vinoba Enclave A1 Block Najafgarh Main Road Opp.DSIDC SHOP, Najafgarh

Indra Park, Najafgarh

Madhav Enclave Khaira Road, Najafgarh

Golden Enclave B Block Nangil Sakrawati, Najafgarh

Durga Vihar, Ph-III, Najafgarh

Shiv Nagar Virendra Market Raghuvir Enclave, Najafgarh

Ranaji Enclave Najafgarh, Nangli, Sakravati, Najafgarh

Vatasta Enclave (Kashmiri Colony) Prem Nagar, Z-Block, Najafgarh

Baba Garib Das Colony Khera Dabar

Laxmi vihar B- Block Nangli, Sakravati, Najafgarh

Bajrang Enclave, Nangloi Road, Najafgarh

Shiv Vihar Khera Dabar, Najafgarh

Shri Anand Niketan Laxmi Vihar D- Block, Najafgarh

Pochanpur Ext., B-Block, Najafgarh

Dharam Pura Extn.R- Block Kakrola Road, Najafgarh

Dharam Pura H & I Block, Najafgarh

Ajay Park, Naya Bazar, D-Block; Sanjay Enclave, Uttam Nagar, Najafgarh

Raghubir Block Prem Nagar Najafgarh Paprawat Road, Najafgarh

Naveen Place Block- C-I, Jharodha Rd, Najafgarh

Gopal Nagar Extn. Main Surakhpur Road, Najafgarh

Durga Vihar Ph-II, Najafgarh

Rana Ji Enclave, Block-1A, Main Najafgarh Road, Najafgarh

Prem Nagar, G-Block, Leftout Portion near Sant Kabir Ashram, Najafgarh

West Gopal Nagar Ph-II Surakh Pur Road, Najafgarh

Kamrudin Nagar, Extn.-III, Najafgarh Road, Najafgarh

Chander Mohalla DharM.Purura, Extn., Najafgarh

Bhawani Nagar near Dinpur, Najafgarh

Todarmal Block, Prem Nagar, Najafgarh

Roshan Mandi, Najafgarh Road, Najafgarh

Prem Nagar B- Block Ph-III, Najafgarh

Prem Nagar, B-Block, Najafgarh

Gopal Nagar Extn., P&R Block, Najafgarh

Nanda Enclave Dhansa Road, Najafgarh

Prem Nagar Ph-III, Najafgarh

Jai Vihar Phase-II, Dichau Village, Najafgarh

East Krishna Vihar A B Block Khaira Road, Najafgarh

New Roshanpura Extn. X Block, Najafgarh

New Gopal Nagar, A&B Block, Nanak Piou, Dansa Road, Najafgarh

Laxmi Vihar Block A B C Main Najafgarh Road near D.T.C.Dept.

Mahesh Garden, No.1, Haibatpura, Bahadurgarh Road, Najafgarh

Hans Nagar, Pandwala Kalan, Najafgarh

New Roshanpura (KLM Block), Najafgarh

Prem Nagar G-Block Left out portion, Najafgarh

Naveen Place D-Block; Shyam Kunj, Najafgarh

Mansha Ram park (A B Block) Najafgarh Road

Indra Park Extension, Guru Nagar, Najafgarh

Shyam Vihar, Deenpur, Najafgarh

Prem Nagar Ph-1,2,4 Thana Road, Najafgarh

Sudan Garden, Najafgarh

Brij Vihar, Najafgarh

Shyam Enclave Deendarpur, Najafgarh

Prem Nagar, A B & D E F, Najafgarh

Gopal Nagar, M-N Block, Najafgarh

New Roshan pura Extn.Z- Block, Najafgarh

Durga Vihar Extn., Najafgarh

Shiv Enclave Extn., Nangloi Road, Najafgarh

Ghasipura Extn.Colony Nangli Dairy, Najafgarh

Vijay Park, Extn. (LOP), Gali No.15, Najafgarh

Kamla Kunj, Najafgarh (LOP), Najafgarh

Khera Dabar Extn.Colony North West Najafgarh

Gopal Nagar, Block AM & N Block Extn., Najafgarh

Naveen Place, Jharoda Road, Najafgarh

Ganpati Enclave X- Block New Roshanpura Extn., Najafgarh

Roshan Vihar Kakrola Road, Najafgarh

Roshan Vihar, Ph-II Paprawat Road, Najafgarh

Prem Nagar C- Block, Najafgarh

Durga Park Din Darpur Extn., Najafgarh

Deepak Vihar, Najafgarh

Gopal Nagar Ph-2 Z- Block Surkhpur Road, Najafgarh

Surya Kunj Pt-I Dichiao Road, Najafgarh

Jai Vihar, Nangloi Road, Najafgarh

Defence Enclave Goela Tajpur Khurd, Najafgarh

Gopal Nagar Ph-II Shyam Vihar Chandan Enclave, Najafgarh

Vivek Nagar, E-Block, Roshan Vihar, Ph-2, Najafgarh

Dhram Pura Extn. A-2 Block, Najafgarh

Gopal Nagar B- Block Main Dhansa Road, Najafgarh

Sai Baba Enclave, Najafgarh

Pochan Pur Extn., Najafgarh

Main Gopal Nagar, Najafgarh

New Roshan Pura Extn., Block P, P-1, P-2, N-1, B-1, N, Najafgarh

Prem Nagar Z Block Najafgarh SW, Najafgarh

Rana ji Enclave, Najafgarh

Surya Vihar, Deendarpur, Gurgaon Road, Najafgarh

Gemini Park, Nangli Sakrawati More, Najafgarh

Goyala Vihar, Najafgarh

Sainik Enclave, Jharoda Kalan Road, Najafgarh

Sunder Nagar Gopal Nagar Extn.Surakhpur Road, Najafgarh

Pochan Pur Extn. A Block, Najafgarh

Sainik Enclave, Part-II, Jharoda Kala, Najafgarh

Sainik Niketan, Najafgarh

Navyuvak Nanda Block, Mahavir Enclave, Najafgarh

Najafgarh Extn. (Maksudabad), Nangloi Road, Najafgarh

Roshan Garden, Najafgarh

Nangli Vihar Extn. Part-I, Najafgarh